सूरत : मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने सूरत महानगरपालिका क्षेत्र में निर्माणाधीन आउटर रिंग रोड के अंतर्गत तापी नदी पर अब्रामा और वालक इलाके को जोड़ने वाले फ्लाईओवर के निर्माण के लिए 100 करोड़ रुपए मंजूर किए हैं। इस पुल के निर्माण से सूरत महानगरपालिका क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले पूर्वी और उत्तरी इलाकों को जोड़ने वाला महत्वपूर्ण लिंक मिलेगा। 

इसके चलते मुंबई की ओर से राष्ट्रीय राजमार्ग से यानी पलसाणा होते हुए आने वाले वाहन सूरत शहर में प्रवेश किए बिना सीधे वरियाव, सायण और गोथाण क्षेत्र की ओर जा सकेंगे, जिससे शहर में यातायात का दबाव भी नहीं बढ़ेगा।  उसी तरह, इन इलाकों के वाहन आउटर रिंग रोड के इस फ्लाईओवर का उपयोग कर सीधे मुंबई की ओर जा सकेंगे। 

इस फ्लाईओवर के निर्माण से सूरत महानगरपालिका सीमा क्षेत्र के अंतर्गत पूर्व और उत्तर दिशा के क्षेत्रों को एक अहम कनेक्टिविटी प्राप्त होगी और शहरी क्षेत्र में ट्रैफिक का बोझ भी कम होगा।  इतना ही नहीं, यह पुल आउटर रिंग रोड और उससे जुड़े क्षेत्रों के त्वरित विकास में महत्वपूर्ण कड़ी साबित होगा। 

उल्लेखनीय है कि स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित हो रहे सूरत महानगर में प्रवेश करने और बाहर निकलने के मुख्य मार्गों पर ट्रैफिक का बोझ कम करने के लिए कुल 66.77 किलोमीटर लंबाई और 90 मीटर चौड़ाई वाला आउटर रिंग रोड बनाने की योजना को अमलीजामा पहनाया जा रहा है। 

यह रिंग रोड सूरत शहर के साथ जुड़े स्टेट हाईवे और नेशनल हाईवे को जोड़ने वाला रोड है। इसमें 39 किलोमीटर लंबाई के मौजूदा रोड को छोड़कर शेष 27.774 किमी लंबे रोड को ग्रीन फील्ड प्रोजेक्ट के तौर पर तैयार किया जा रहा है। इसके अंतर्गत अभी 17.32 किमी लंबाई और 45 मीटर चौड़ाई में आउटर रिंग रोड बनाने का कार्य प्रगति पर है। 

यह आउटर रिंग रोड सूरत महानगरपालिका क्षेत्र में वालक के समीप तापी नदी को पार करता है। वहां तापी नदी पर वालक और अब्रामा इलाके को जोड़ने वाले पुल (फ्लाईओवर) के निर्माण की योजना बनाई बनाई गई है। 179.31 करोड़ रुपए की लागत से तापी नदी पर निर्मित होने वाला यह फ्लाईओवर 1.65 किमी लंबा और 2x11.00 मीटर कैरिज-वे का (3+3 लेन) का होगा।