मेरान्यूज नेटवर्क.मुंबईः महाराष्ट्र में अब है उद्धव ठाकरे की सरकार, जीस सरकारमे सोमवार को मंत्रिमंडल के विस्तार के बाद कई विधायक नाराज हुए है. बुधवार को पुणे में स्थित कोंग्रेस भवन में विधायक संग्राम थोपटे के समर्थकोने जमकर तोडफोड की है. समर्थको में नाराजगी ईस बारे मेंथी की उनके नेता को मंत्रिमंडल में स्थान नहीं मिला था. समर्थको ने कोंग्रेस अध्यक्ष बाला साहेब थोराट के कार्यालयमें जमकर उत्पात मचा दीया है.

मंत्रिमंडल के विस्तार में कोंग्रेस का आंतरिक विवाद सामने आने लगा है. सूनने में आया हे की कई और वरिष्ठ नेता भी सोमवार शामको मल्लिकार्जुन खडगे से मिलने पहूंचे थे और अपने आप को नजरअंदाज कीये जाने पर शिकायते की थी. जीन वरिष्ठ नेताओ में पृथ्वीराज चव्हाण, प्रणीति शिंदे, नसीम खान, संग्राम थोपटे, अमीन पटेल और रोहिदास पाटिल शामिल हैं. सूत्रों के अनुसार इन नेताओं का आरोप है कि खड़गे ने कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी को गुमराह किया है. नाराज नेता दिल्ली जाकर सोनिया गांधी से मिलने की योजना बना रहे हैं.

विधायकों की नाराजगी इसलिए भी है कि राज्य विधानसभा की 288 संख्या में कुल 43 मंत्री ही हो सकते हैं. उद्धव ठाकरे के मंत्रिमंडल में यह संख्या पूरी हो गई है. ऐसे में जल्द ही किसी नए को मौका मिलने के आसार नहीं हैं. अब तभी किसी नए विधायक को मौका मिलेगा जब कोई मंत्री इस्तीफा दे. और हालात को देखते हुए दूर दूर तक कोई ईस्तीफा देगा एसा लग तो नहीं रहा है. मंत्रिमंडल में परिवारवाद भी खूब चला है. 19 मंत्री राजनीति परिवारों से हैं.