मेरान्यूज नेटवर्क.गांधीनगरः एक समय था जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गुजरात के पूर्व सीएम शंकरसिंह वाघेला एक ही वाहन में गुम कर भाजपा के लीए प्रचार-प्रसार का कार्य करते थे. उन की उस समय की मित्रता को देख कर आप को किसी हिन्दी फिल्म की याद आ जाए. लेकीन हालात कुछ और है.

अयोध्या में आज राम मंदिर का शिलान्यास हुआ है. उस समये प्रधानमंत्री के उस पूर्व सहयोगीने सोशियल मीडिया पर अपनी बात रखी है जीसमे उन्होने ईस कार्यक्रम को उदेश्य से ज्यादा खुद की मार्केटिंग कहा है. साथ ही अपनी और नरेन्द्र मोदी सहीत वो सारे नेताओ की तसवीरे भी साझा की है जीन्होने आंदोलनो के समय सहयोग दीया था.

शंकरसिंह वाघेलाने ट्वीट कीया है की, इतिहास में अपना योगदान देने वाले लोगों के लिए उदेश्य महत्वपूर्ण था ना की खुदकी मार्केटिंग इसलिए ज्यादा शोर मचाकर इतिहास बताया नहीं गया लेकिन आज जब कुछ लोग अपने स्वार्थ के लिए इतिहास से छेड़छाड़ कर रहे है तब इतिहास याद दिलाना जरूरी है।