मेरान्यूज नेटवर्क.नई दिल्ली: भारत ने एक दिन में 7 लाख से अधिक परीक्षणों के नए शिखर को छू लिया है। कई दिनों से एक दिन में 6 लाख से अधिक परीक्षणों की प्रवृत्ति को जारी रखते हुए भारत में कोविड परीक्षणों की संख्‍या में भारी बढ़ोतरी हुई है। पिछले 24 घंटों के दौरान 7,19,364 परीक्षण किए गए हैं।

परीक्षण के इस प्रकार के उच्‍च स्‍तर से प्रतिदिन पॉजिटिव मामलों की संख्‍या भी बढ़ेगी, हालांकि राज्‍यों को यह सलाह दी गई है कि वे व्‍यापक ट्रैकिंग, त्‍वरित, आइसोलेशन और प्रभावी उपचार के बारे में मजबूती से ध्‍यान केन्द्रित करें और केन्‍द्र की अगुवाई वाली परीक्षण, ट्रैकऔर उपचार की रणनीति का पालन करें। पिछले सप्‍ताह के दौरान कई बैठकें आयोजित की गई हैं ताकि उच्‍च मृत्‍युदर दर्शा रहे राज्‍यों के साथ जुड़ा जा सके।

इस तरह से ऐसे दृष्टिकोण ने परिणाम दिखाने शुरू कर दिए हैं और रोगी भी तेजी से ठीक हो रहे हैं। भारत में एक दिन में 53,879ठीक हुए हैं जिनकी कल छुट्टी हुई है। इससे ठीक होने वाले मरीजों की संख्‍या आज 14,80,884 के उच्‍च स्‍तर पर पहुंची है। यह संख्‍यासक्रिय मामलों की संख्‍या (आज 6,28,747) की दोगुनी है।ठीक हुए मरीजों की संख्‍यासक्रिय मामलों की तुलना में 2.36 गुना के स्‍तर पर पहुंची है, जो घरों पर आइसोलेशनया अस्‍पतालों में चिकित्‍सा निगरानी के अंतर्गत हैं।

ठीक हुए मरीजों की बड़ी संख्‍या के साथ रिकवरी दर आज 68.78 प्रतिशत पर कायम है।

ठीक हुए और सक्रिय मामलों के बीच व्‍यापक अंतर यह दर्शाता है कि अस्‍पताल में भर्ती या घर में आइसोलेशन वाले मरीजों की तुलना में ठीक हुए मरीजों की संख्‍या आज बढ़कर 8,52,137 हो गई है।

ठीक हुए मरीजों की यह अधिक संख्‍या केन्‍द्र और राज्‍य/केन्‍द्र शासित प्रदेशों की सरकारों द्वारा अपने नैदानिक उपचार प्रोटोकॉल में केन्‍द्र द्वारा परामर्श के अनुसार देखभाल के मानक पर आधारित गुणवत्तायुक्‍त नैदानिक देखभाल उपलब्‍ध कराने के उद्देश्‍य से अस्‍पताल और नैदानिक प्रबंधन बुनियादी ढांचे को तैयार करने की दिशा में सामूहिक रूप से विभिन्‍न कार्यक्रमों के कार्यान्‍वयन में ध्‍यान केन्द्रित करने का परिणाम है। इन प्रयासों के कारण केस मृत्‍युदर में और गिरावट आई है और इसने आज 2.01 प्रतिशत की सुधार दर को छू लिया है।

कोविड-19 से संबंधित तकनीकी मुद्दों पर सभी प्रामाणिक और अद्यतन जानकारी के लिए, दिशा-निर्देश और सलाह नियमित रूप से देखें: https://www.mohfw.gov.in/और @MoHFW_INDIA।