मेरान्यूज नेटवर्क.गांधीनगर:  मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने आज राजकोट के कोविड और कैंसर मरीजों के लिए स्वास्थ्य सेवा संबंधित चार प्रकल्पों का ई-लोकार्पण कर कोरोना की वैश्विक महामारी में गुजरात के नागरिकों को मेडिकल क्षेत्र के नए अविष्कारों और संशोधन के जरिए अद्यतन उपचार सुविधा मुहैया कराने की मंशा व्यक्त की। 

मुख्यमंत्री ने उप मुख्यमंत्री नितिनभाई पटेल की अध्यक्षता में गांधीनगर से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए राजकोट के कैंसर केयर एंड रिसर्च हॉस्पिटल का ऑनलाइन लोकार्पण किया। 

इसके साथ ही सौराष्ट्र कैंसर हॉस्पिटल में आधुनिक उपकरणों की सुविधा से लैस 200 बिस्तरों वाले कोविड हॉस्पिटल, पंडित दीनदयाल उपाध्याय हॉस्पिटल में कोविड ऑटोप्सी सेंटर, राज्य के फिजियोथेरेपी कॉलेजों में पोस्ट कोविड कार्डियक और पल्मोनरी रिहैबिलिटेशन प्रशिक्षण कार्यक्रम तथा सौराष्ट्र कैंसर हॉस्पिटल में आधुनिक लीनियर एक्सीलरेटर व सिटी सिम्यूलेटर मशीनों का डिजिटली लोकार्पण किया गया। 

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने साफ कहा कि कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के खिलाफ जंग में गुजरात चिकित्सकों और लोगों के सहयोग से संक्रमण की रोकथाम में काफी हद तक सफल रहा है। कोरोना के अत्याधुनिक उपचार और निदान के व्यापक कार्य के चलते गुजरात राष्ट्रीय स्तर पर रोल मॉडल के रूप में स्थापित हुआ है। 

रूपाणी ने गुजरात सरकार की ओर से कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी देते हुए कहा कि गुजरात का रिकवरी रेट (मरीज के स्वस्थ होने की दर) 82 फीसदी हो गया है जबकि मृत्यु दर जो पहले 7 फीसदी थी, वह अब घटकर 2.9 फीसदी पर पहुंच गई है। वहीं, पॉजिटिविटी रेट यानी परीक्षण के बाद लोगों के पॉजिटिव निकलने की दर 10 फीसदी से घटकर 3.5 फीसदी हो गई है। 

उन्होंने कहा कि राजकोट शहर में कोरोना के उपचार के लिए केवल एक सप्ताह में स्थापित किए गए 200 बिस्तरों वाले हॉस्पिटल के कारण अब कोरोना के किसी भी मरीज को उपचार में मुश्किलों का सामना नहीं करना पड़ेगा। 

राजकोट में सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल की भी सहूलियत है और वर्ष 2022 से पहले अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की  स्थापना भी हो जाएगी। इसलिए आगामी दिनों में राजकोट सहित समूचे सौराष्ट्र में श्रेष्ठ स्वास्थ्य सुविधाएं स्थानीय स्तर पर ही सुलभ होंगी। 

राजकोट जिले में कोरोना संक्रमण को काबू करने राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन के समन्वय और वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में प्रभावी रूप से कार्य हो रहा है। 

मेडिकल क्षेत्र में संशोधन के मामले में गुजरात के अग्रणी होने का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राजकोट में शुरू हुआ देश का दूसरा कोविड ऑटोप्सी सेंटर कोरोना संक्रमित मृत शरीर के अंगों पर पड़ने वाले प्रभाव को जानने और उसके पृथक्करण अभ्यासों के माध्यम से इस दिशा में मील का पत्थर साबित होगा। 

उन्होंने कहा कि राजकोट सौराष्ट्र का केंद्र बिंदु है। सौराष्ट्र के अन्य जिलों के लोग यहां उपचार के लिए आते हैं। ऐसे में, उन्हें कैंसर जैसे जटिल रोग की उपचार सुविधा सरलता से उपलब्ध कराने के ध्येय के साथ सौराष्ट्र कैंसर हॉस्पिटल में अत्याधुनिक उपचार सुविधा की मशीनें स्थापित की गई हैं। 

इस मौके पर उप मुख्यमंत्री नितिनभाई पटेल ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए उच्च अधिकारियों से लगातार परामर्श करने के बाद उसकी पूर्व तैयारी के भाग के रूप में आधुनिक सुविधा से सुसज्जित 200 बिस्तरों वाले कोविड हॉस्पिटल का प्रारंभ किया गया है। इससे राजकोट और सौराष्ट्र के लोगों को उत्तम उपचार सुविधा मुहैया होगी साथ ही कैंसर जैसी गंभीर बीमारी के निदान व उपचार के लिए लोगों को अहमदाबाद तक जाने की जरूरत नहीं पड़गी। अब राजकोट मेडिकल क्षेत्र में हब बनने जा रहा है साथ ही लीनियर एक्सीलरेटर और सिटी सिम्युलेटर मशीन उपलब्ध होने से इन अत्याधुनिक मशीनों का लाभ सौराष्ट्र के लोगों को स्थानीय स्तर पर ही उपलब्ध होगा। उन्होंने कहा कि यहां कैंसर का उपचार निःशुल्क किया जाएगा। 

पटेल ने कहा कि कोरोना संक्रमित व्यक्ति की मौत के बाद उसके परिजनों की अनुमति से की जाने वाली ऑटोप्सी चिकित्सा संशोधन के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। इस संशोधन के आधार पर अन्य लोगों को नया जीवन देने में सहायता मिलेगी। 

स्वास्थ्य विभाग की प्रधान सचिव जयंती रवि ने कहा कि मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उप मुख्यमंत्री नितिनभाई पटेल की दूरदर्शिता के कारण कोरोना के खिलाफ जंग में 200 बिस्तरों वाले कोविड हॉस्पिटल के साथ कैंसर जैसे गंभीर रोग के उपचार के लिए आवश्यक आधुनिक लीनियर एक्सीलरेटर, ब्रेकी थेरापी मशीन और सिटी सिम्यूलेटर जैसे मशीन काफी उपयोगी साबित होंगे। इसके अलावा, राज्य के सभी सरकारी फिजियोथेरापी कॉलेज में विद्यार्थियों को पोस्ट कोविड रिहैबिलिटेशन सेंटर का प्रशिक्षण दिया जाएगा। 

इस अवसर पर जिला कलक्टर रेम्या मोहन ने स्वागत भाषण दिया जबकि कैंसर हॉस्पिटल की मेडिकल सुपरिटेंडेंट अंजना त्रिवेदी ने आभार व्यक्त किया। 

कार्यक्रम में सांसद मोहनभाई कुंडारिया, म्युनिसिपल फाइनेंस बोर्ड के चेयरमैन धनसुखभाई भंडेरी, उप महापौर अश्विनभाई मोलिया, मनपा में शासक दल के नेता दलसुखभाई जागाणी, स्थाई समिति के अध्यक्ष उदयभाई कानगड़, अग्रणी नितिनभाई भारद्वाज, कमलेशभाई मीराणी, पुलिस आयुक्त मनोज अग्रवाल, नोडल ऑफिसर राहुल गुप्ता, स्वास्थ्य निदेशक जेडी देसाई, पीजीवीसीएल की प्रबंध निदेशक श्वेता टीओटिया, मनपा आयुक्त उदित अग्रवाल, जिला विकास अधिकारी अनिल राणावासिया, डीआरडीओ के निदेशक जे.के. पटेल, मेडिकल कॉलेज की डीन गौरवीबेन ध्रुव सहित मेडिकल जगत के विशेषज्ञ, चिकित्सक और कई गणमान्य लोग उपस्थित थे।