मेरान्यूज नेटवर्क.गांधीनगर:मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा कि कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के इस संकट काल में जब पूरी दुनिया में विकास कार्यों पर ब्रेक लग गया है, तब गुजरात ने इस विकट समय में भी राज्य में 9,255 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का ई-लोकार्पण और भूमिपूजन कर विकास की रफ्तार को थमने नहीं दिया है। 

मुख्यमंत्री ने मंगलवार को गांधीनगर से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वडोदरा महानगर में 44 करोड़ रुपए के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण और 279 करोड़ रुपए के कार्यारंभ-भूमिपूजन सहित कुल 322.66 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का ‘एट वन क्लिक’ शुभारंभ किया। गुजरात विधानसभा के अध्यक्ष श्री राजेन्द्र त्रिवेदी इस अवसर पर मुख्यमंत्री के साथ जुड़े थे। 

उन्होंने कहा कि कोरोना के संकट काल में भी गुजरात न झुका है, न रुका है बल्कि विकास की लंबी छलांग रहा है। इतना ही नहीं, कार्य शुरू कर उसे समयबद्ध तरीके से पूरा करने की रणनीति अपनाकर ‘जिसका भूमिपूजन हम करते हैं, उसका लोकार्पण भी हम ही करते हैं’ ऐसी जो कार्यसंस्कृति विकसित की है उसे आगे बढ़ाया है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की 45 फीसदी आबादी नगरों व महानगरों में रहती है, ऐसे में जनता की आकांक्षा एवं अपेक्षाओं को पूर्ण करने के साथ ही पानी, ड्रेनेज, सड़क और बिजली जैसी बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए यह सरकार ‘जहां नागरिक, वहां सुविधा’ के मंत्र के साथ सेवारत है। 
उन्होंने कहा कि विकास के कामकाज में विवाद नहीं संवाद और न्यूनतम साधनों के अधिकतम इस्तेमाल की संकल्पना के साथ नगर सुख-सुविधा के कार्यों को नई गति प्रदान की है। 

रूपाणी ने साफ कहा कि अतीत की कांग्रेसी सरकारों के दौरान धन के अभाव में विकास के कार्य होते ही नहीं थे। नगरपालिका और महानगरपालिका को ऐसे कार्यों के लिए राज्य सरकार की तरफ से फूटी कौड़ी भी नहीं मिलती थी और स्थानीय प्रशासन को वित्तीय संस्थाओं और विश्व बैंक आदि से कर्ज लेकर अपना काम निपटाना पड़ता था। जबकि आज स्थिति बिल्कुल विपरीत है, विकास के कार्य पैसे की चिंता किए बिना हो रहे हैं। 

उन्होंने स्थानीय निकाय की संस्थाओं और महानगरपालिकाओं से आह्वान किया कि वे पैसे की चिंता किए बगैर विकास कार्यों के लिए कैपेसिटी बिल्डिंग करें। उन्होंने कहा कि, जितने ज्यादा काम लेकर आएंगे, यह सरकार उतना ही ज्यादा धन मुहैया कराएगी। 
उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य विकास ही है और विकास कार्यों को करने की तत्परता के साथ केंद्र और राज्य सरकार निश्चित लक्ष्यपूर्ति से कार्यरत है। 

खुले में शौच क्रिया मुक्त राज्य के रूप में गुजरात के अग्रणी स्थान का जिक्र करते हुए रूपाणी ने संकल्प जताया कि अब प्रधानमंत्री की महत्वाकांक्षी नल से जल योजना के अंतर्गत भी सौ फीसदी घरों को नल के जरिए शुद्ध पेयजल पहुंचाने में भी गुजरात देश का नेतृत्व करेगा। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के नगरों और महानगरों को विश्वस्तरीय सुविधाओं के साथ विकास की वैश्विक प्रतियोगिता में खड़े रह सकें ऐसे स्मार्ट सिटी बनाने के लिए राज्य सरकार ने अनेक दृष्टिकोण अपनाएं हैं। 

उन्होंने कहा कि राज्य के 4 शहरों ने देशव्यापी स्वच्छता सर्वेक्षण में भी टॉप-10 में स्थान प्राप्त कर गौरव बढ़ाया है। वडोदरा नगर को भी इस सूची में स्थान बनाने के लिए उन्होंने बधाई दी। 

मुख्यमंत्री ने आगामी दिनों में कोरोना मुक्त गुजरात बनाने के साथ अर्बन इंफ्रास्ट्रक्चर, स्वास्थ्य और लॉजिस्टिक जैसे क्षेत्रों में एक संपूर्ण इकोसिस्टम खड़ा कर गुजरात को सर्वग्राही विकास के एक रोल मॉडल के रूप में स्थापित करने की मंशा जताई। 

नर्मदा विकास राज्य मंत्री योगेशभाई पटेल ने वडोदरा के विकास को आगे बढ़ाने के लिए राज्य सरकार के समर्थन के लिए आभार व्यक्त किया। 

उन्होंने कहा कि नर्मदा नहर के निकट स्थित टिंबी तालाब को भरकर शहर के पूर्वी इलाके के लिए जलापूर्ति का एक और स्रोत विकसित करने का निर्णय लिया गया है। एक हजार एकड़ क्षेत्र में फैले प्रताप सरोवर की वडोदरा के लिए जल भंडार बनने की संभावना को देखते हुए उन्होंने मानसून के तुरंत बाद इस तालाब में सफाई कार्य शुरू करने का वडोदरा मनपा से आग्रह किया। 

पटेल ने एम.एस. यूनिवर्सिटी के पास उपलब्ध विभिन्न विषयों की विशेषज्ञता और विकास आयोजनों के संदर्भ में देशभर से ली जा रही उसकी परामर्श सेवाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि वडोदरा महानगरपालिका भी विकास योजनाओं में यूनिवर्सिटी की निपूणता का लाभ उठा सकती है। 

महापौर डॉ. जिगीशाबेन शेठ ने स्वागत भाषण में वडोदरा महानगर के वर्तमान विकास कार्यों और भविष्य की योजनाओं की रूपरेखा प्रस्तुत की। मनपा आयुक्त पी. स्वरूप ने विकास कार्यों की भेंट के लिए वडोदरा शहर की ओर से मुख्यमंत्री और राज्य सरकार का आभार जताया। 

इस मौके पर सांसद रंजनबेन, विधायक जीतुभाई सुखड़िया, सीमाबेन मोहिले, शैलेष मेहता, उप महापौर डॉ. जीवराज चौहान, मनपा पदाधिकारी और पार्षदगण उपस्थित थे।