मेरान्यूज नेटवर्क.गांधीनगर: मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने स्पष्ट कहा है कि गुजरात में पर्यावरण संरक्षण के साथ सतत औद्योगिक विकास के लिए हमने इंडस्ट्रियल इकोसिस्टम और इंफ्रास्ट्रक्चर को सुदृढ़ बनाने को प्राथमिकता दी है। शनिवार को गांधीनगर में गुजरात डाईस्टफ मैन्युफेक्चरिंग एसोसिएशन की डायरेक्टरी-२०२०, वेब पोर्टल और मोबाइल एप की ई-लॉन्चिंग करते हुए उन्होंने यह बात कही। 

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने हाल ही में जारी की अपनी नई औद्योगिक नीति २०२० में भी इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने के लिए प्रोत्साहनों की घोषणा की है। 

उन्होंने कहा कि राज्य में वटवा, अंकलेश्वर, वापी और वडोदरा जैसे पॉकेट्स (क्षेत्रों) को ध्यान में रखकर इंडस्ट्रियल इकोसिस्टम और इंफ्रास्ट्रक्चर के आधार पर पर्यावरण को संरक्षित करते हुए औद्योगिक विकास हो रहा है। 

गृह राज्य मंत्री प्रदीपसिंह जाडेजा और  पर्यावरण राज्य मंत्री जयद्रथसिंह परमार सहित एसोसिएशन के पदाधिकारी मौजूद थे। 

रूपाणी ने कहा कि गुजरात की सकल घरेलू उत्पाद दर (जीडीपी रेट), निर्यात दर और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) में लगातार इजाफा हो रहा है और मौजूदा हालात में चीन से बाहर निकलने वाले उद्योगों के लिए भारत और खासकर गुजरात निवेश का श्रेष्ठ गंतव्य बनने जा रहा है। 

उन्होनें कहा कि ऐसी स्थिति में डाईस्टफ और केमिकल हब के रूप में गुजरात की ख्याति को पर्यावरण संरक्षण के साथ आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी डाईस्टफ मैन्युफेक्चरिंग एसोसिएशन और उसके सदस्य उद्योगों की है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में विकास की गति सुस्त जरूर पड़ी थी, लेकिन रुकी नहीं थी और अब विकास कार्यों से रोजाना की गतिविधियां फिर से शुरू हो गई हैं। 

उन्होंने कहा कि यह डायरेक्टरी, मोबाइल एप और वेब पोर्टल डाईस्टफ उद्योगपतियों को दुनिया के साथ जोड़ने में उपयोगी साबित होगा। 

गृह राज्य मंत्री प्रदीपसिंह जाडेजा ने आश्वासन दिया कि एसोसिएशन की समस्याओं को लेकर मुख्यमंत्री उचित विचार करेंगे। 

एसोसिएशन के अध्यक्ष योगेशभाई परीख ने स्वागत जबकि उपाध्यक्ष रमेशभाई पटेल ने आभार व्यक्त किया।