माहिती स्रोत,  PIB Delhi:केन्द्रिय गृहमंत्री अमित शाह ने हिमाचल प्रदेश - ग्‍लोबल इन्वेस्टर्स मीट की पहली ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी में बोलते हुए कहा कि उन्‍हें यह जानकर खुशी है कि हिमाचल सरकार इतने कम समय में 13 हजार करोड़ की योजनाओं को धरातल पर उतारने में सफल हुई। अमित शाह ने कहा कि लगभग तीन महीने पहले हुर्ए इन्‍वेस्‍टर्स समिट में 85 हजार के एमओयू हुए जिसमें से अल्‍प अवधि में ही 13 हजार करोड के इन्‍वेस्‍टमेंट को जमीन पर उतारने का काम किया गया है । वैश्विक मंदी एक अस्थायी चरण है और भारत जल्द ही इससे बाहर आ जाएगा। मोदी सरकार के “रिफार्म-परफार्म-ट्रांसफॉर्म” की नीति के कारण वैश्विक सूचकांकों में 2014-19 के बीच भारत की रैंकिंग में सुधार हुआ।

अमित शाह ने कहा कि कार्पोरेट टैक्स में बदलाव किया गया और भारत विश्व में सबसे कम कॉरपोरेट टैक्स वाला देश बन गया है। उनका कहना था कि इससे बैलेंस शीट को ताकत मिलेगी जिससे उद्योग और मजबूत होगा। सूक्ष्‍म और मध्‍यम श्रेणी के उद्योगों को बढावा देने का काम किया जा रहा है जिससे यहां का युवा अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर प्रतिस्‍पर्धा के लिए तैयार हो सके।

शाह ने केंद्र सरकार द्वारा पहाड़ी राज्य में बुनियादी ढांचे के विकास पर विशेष ध्यान देने पर जोर दिया और कहा कि राज्य की 69 सड़कों को राष्ट्रीय राजमार्ग के रूप में वर्गीकृत किया गया है और केंद्र सरकार द्वारा विकसित किया जा रहा है। उन्होंने मंडी में एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के विकास और हिमाचल प्रदेश जैसे भौगोलिक रूप से चुनौतीपूर्ण क्षेत्र में तीन प्रमुख चार-लेन राजमार्गों के निर्माण की बात कही। उन्होंने कहा कि अटल सुरंग राज्य की एक ऐसी ऐतिहासिक परियोजना है जो सबसे कम समय में पूरी हुई थी।