मेरान्यूज नेटवर्क.अहमदाबाद: गृह राज्य मंत्री प्रदीपसिंह जाडेजा ने कहा है कि अहमदाबाद स्थित श्रेय हॉस्पिटल में ६ अगस्त की मध्य रात को लगी आग की घटना को मुख्यमंत्री श्री विजय रूपाणी ने बेहद गंभीरता से लिया है।

उन्होंने इस घटना में जान गंवाने वाले आठ व्यक्तियों के प्रति गहरा शोक व्यक्त कर मृतकों के आश्रितों को चार लाख रुपए की सहायता देने की घोषणा की थी और घटना में घायल हुए लोगों को भी ५० हजार रुपए की सहायता देने घोषणा की थी।

मुख्यमंत्री ने श्रेय हॉस्पिटल में आग लगने की पूरी घटना की जांच के लिए गृह विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव संगीता सिंह और शहरी विकास विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव मुकेश पुरी को नियुक्त किया था।

मुख्यमंत्री ने इन दो वरिष्ठ अतिरिक्त मुख्य सचिवों को उनकी जांच रिपोर्ट तीन दिनों में राज्य सरकार को सौंपने का स्पष्ट निर्देश दिया था।

इन वरिष्ठ अतिरिक्त मुख्य सचिवों ने अहमदाबाद महानगरपालिका, एफएसएल, इलेक्ट्रिकल इंस्पेक्टर, फायर ब्रिगेड और पुलिस के सभी कार्यों की रिपोर्ट मंगाई थी।

आज इन दो वरिष्ठ अतिरिक्त मुख्य सचिव संगीता सिंह और मुकेश पुरी ने उनकी जांच रिपोर्ट राज्य सरकार को सौंप दी है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि प्राथमिक रूप से इलेक्ट्रिकल चिकित्सा उपकरण में आग लगने से यह घटना हुई है। यह एक प्रकार की आकस्मिक आग (एक्सिडेंटल फायर) थी, जो लगभग तीन मिनट में ही आईसीयू में फैल गई थी।

मुख्यमंत्री ने आठ लोगों की दर्दनाक मौत की इस समूची घटना को अत्यंत गंभीरता से लेकर वरिष्ठ अतिरिक्त मुख्य सचिवों द्वारा सौंपी गई रिपोर्ट के बाद किसी भी प्रकार का न्यायिक मसला छूट न जाए या कोई भी दोषी बचने न पाए, उस मकसद से पूरी घटना की गहन जांच के लिए हाई कोर्ट के सेवानिवृत्त
न्यायाधीश की अध्यक्षता में जांच आयोग को न्यायिक जांच सौंपने का निर्णय किया है।

प्रदीपसिंह जाडेजा ने कहा कि राज्य सरकार ने आज इस घटना के संबंध में पुलिस को भी तेजी से एफआईआर की कार्यवाही करने के आदेश दिए हैं।