मेरा न्यूज नेटवर्क.अहमदाबाद : चलती ट्रेन में हो रही चोरी और लूंट से यात्रियों को बचाने के लिए गुजरात रेल्वे पुलिस द्वारा "सुरक्षित सफर" एप बनाई गई है। शनिवार को ही गृहराज्यमंत्री प्रदीपसिंह जडेजा ने एप का लॉन्चिंग किया था। लेकिन इस एप में भारत में चलनेवाली ट्रेन के बजाय पाकिस्तानी ट्रेन का फोटो रखा जाने से कई सवाल उठने लगे है।

दरअसल एप्लिकेशन में ट्रेन की जो फ़ोटो है उसमें ट्रेन का कलर देखकर ही वह पाकिस्तानी ट्रेन होने का पता चलता है। इसके साथ ही इंजन पर 6019 नंबर लिखा है। गूगल के मुताबिक यह नंबर भी पाकिस्तानी ट्रेन का है। इतना ही नहीं पाकिस्तानी चेनल जिओ टीवी की वेबसाइट पर लिखी गई पाकिस्तान रेल्वे की रिपोर्ट में भी यहीं फोटो दिखाई दे रहा है।

हालांकि बात मीडिया और सोशल मीडिया में पहुंच जाने के बाद प्रशासन हरकत में आया । रेल्वे पुलिस के डीआईजी के मुताबिक, एप्लिकेशन बनानेवाले ने पाकिस्तानी न्यूज से यह फोटो लिया होने की आशंका है। हालांकि अब यह बात सामने आने के बाद तुरंत ही उसका संपर्क किया गया है। और जल्द से जल्द ग़लती को सुधार लिया जाने का आश्वासन भी उन्होंने दिया है।

लेकिन इस मामले में सबसे बड़ा सवाल है कि, एप बनानेवाले को तो पता नहीं चला, पर लॉन्चिंग होने से पहले और बादमें भी किसी अधिकारी का इस गंभीर बात पर ध्यान क्यों नहीं गया ? इतना ही नही लॉन्चिंग करनेवाले गृहराज्यमंत्री भी इतनी बड़ी बात से बेखबर कैसे रहे ? क्या रेल्वे पुलिस के अधिकारियों और हमारे नेताओं को भी भारत और पाकिस्तान की ट्रेन में फर्क दिखाई नहीं दे रहा है ? जैसे कई सवाल लोगोंमे उठने लगे है।