COVER STORY

गुजरातः जन जागृति अभियान ‘योग करेंगे, कोरोना को हराएंगे’ का CM ने किया शुभारंभ, लगातार छह दिनोंका राज्यव्यापी अभियान

CM

मेरान्यूज नेटवर्क.गांधीनगरः मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने आगामी २१ जून विश्व योग दिवस कार्यक्रम के एक भाग के रूप में आज से गुजरात में ‘योग करेंगे, कोरोना को हराएंगे’ मंत्र के साथ जन जागृति अभियान का राज्यव्यापी शुभारंभ किया है।

मुख्यमंत्री ने इस अभियान के महत्व पर रोशनी डालते हुए कहा कि, कोरोना के इस संक्रमण काल में जब इस रोग की किसी दवा का अब तक आविष्कार नहीं हुआ है, तब पूरे विश्व ने रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए भारतीय संस्कृति की दुनिया को अमूल्य भेंट समान योग-प्राणायाम की दिशा में रुख किया है।

इस संदर्भ में उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि कोरोना के विरुद्ध लड़ाई में योग अत्यंत शक्तिशाली अमोघ शस्त्र साबित होगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पूरे विश्व में योग के महत्व को उजागर किया और उनकी ही पहल के कारण प्रतिवर्ष २१ जून को विश्व योग दिवस के रूप में मनाया जाता है।

रूपाणी ने कहा कि इस वर्ष उत्सव यथावत रहेगा, लेकिन वर्तमान स्थिति के मद्देनजर इसे अलग तरीके से मनाया जाएगा। इस बार यह आयोजन ‘योग करेंगे, कोरोना को हराएंगे’ अभियान के अंतर्गत होगा और योग के जरिए कोरोना को हराने में हम सभी अवश्य सफल होंगे।

उन्होंने कहा कि प्रतिवर्ष २१ जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को हम बहुत उत्साह के साथ मनाते हैं। परन्तु इस वर्ष पूरी दुनिया कोरोना की वैश्विक महामारी का शिकार बन गई है। जब तक कोरोना का निदान नहीं मिलता, तब तक रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी के जरिए हम अपनी सुरक्षा कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने और मानसिक तथा शारीरिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में योग का काफी महत्व है। इस वर्ष योग दिवस की थीम ‘घर पर योग, परिवार के साथ योग’ का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने सभी से अपील की कि हर कोई घर जैसी सुरक्षित जगह पर रोग करके अपने साथ-साथ परिवार के स्वास्थ्य को भी मजबूत बनाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत की इस पूंजी और सांस्कृतिक विरासत को हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विश्व फलक पर पहुंचाया है। संयुक्त राष्ट्र की मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक धरोहर की प्रतिनिधि सूची में भी योग का समावेश किया गया है। योग की लोकप्रियता हमारे देश में ही नहीं वरन जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, सऊदी अरब और अमेरिका जैसे विश्व के अनेक देशों में तेजी से बढ़ रही है।

सनातन संस्कृति में योग के महत्व का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि भगवान श्री कृष्ण भी योगेश्वर के रूप में और भगवान शंकर आदियोगी के रूप में सदियों से पहचाने जाते हैं।

रूपाणी ने कहा कि आज दुनिया भर में लोग शारीरिक और मानसिक रूप से कोरोना से लड़ रहे हैं। कोरोना के इस संकट काल में शारीरिक स्वास्थ्य के साथ ही मानसिक स्वास्थ्य को संभालना भी बहुत जरूरी है।

शारीरिक रोग को तो दवाई से ठीक किया जा सकता है, लेकिन शारीरिक तथा मानसिक चिंता, व्यग्रता और तनाव को दूर करने की कला एकमात्र योग के पास ही है।

इस संदर्भ में उन्होंने कहा कि योग से मानसिक शांति तो मिलती ही है साथ ही शरीर भी निरामय और स्वस्थ बनता है। योग का मुख्य उद्देश्य शरीर को निरामय और निरोगी रखने के साथ-साथ चित्त को नकारात्मक विचारों से दूर कर सकारात्मक दिशा में ले जाना है।

गुजरात की साढ़े छह करोड़ जनता से अपील करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि गुजरात और गुजराती पूरी दुनिया में सभी क्षेत्रों में अग्रणी हैं। मुसीबत चाहे कैसी भी हो, गुजराती उसका सामना कर शीघ्रता के साथ उसमें से निकलकर पुनः गतिमान बनते हैं।

उन्होंने कहा कि कोरोना की इस महामारी से बाहर आकर फिर से गति प्राप्त करने में योग अहम योगदान देगा। कोरोना से बचने के लिए हम सभी को सपरिवार योग कर इस अभियान में शामिल होना चाहिए।

रूपाणी ने कहा कि योग की बात को प्रत्येक गुजराती तक पहुंचाने के लिए हमने हरेक एफ.एम. रेडियो स्टेशन के एक-एक आरजे को ‘योग एम्बेसडर’ घोषित किया है।

ये एम्बेसडर प्रतिदिन योग के अनगिनत फायदे और जानकारियों को अनूठी शैली में गुजरात की साढ़े छह करोड़ जनता तक अपने रेडियो प्रसारण के माध्यम से पहुंचाएंगे।

यह अभियान लगातार सात दिनों तक चलेगा। देश और गुजरात के प्रतिष्ठित व्यक्ति योगासन, ध्यान और प्राणायाम के बारे में फेसबुक पेज के जरिए लाइव प्रस्तुति देंगे।

उन्होंने कहा कि इस अभियान के अंतर्गत योग गुरु स्वामी रामदेव, रविशंकर महाराज, सदगुरु जैसे महानुभाव हमें योग, प्राणायाम और ध्यान के विषय पर मार्गदर्शन देंगे। इसके अलावा, गजुरात से फिटनेस एक्सपर्ट सपना व्यास, युवा उद्योगपति प्रणवभाई अदानी, क्रिकेटर रवीन्द्र जाडेजा, चेतेश्वर पुजारा, गुजरात के युवा सिने कलाकार रोनक कामदार और ऐशा कंसारा भी इस अभियान से जुड़ेंगे।

‘योग करेंगे, कोरोना को हराएंगे’ अभियान के तहत दो टास्क भी रखे गए हैं। इसके अंतर्गत मंगलवार, १६ जून को आपको योग क्यों पसंद है उसे प्ले कार्ड पर लिखकर उसकी तस्वीर सोशल मीडिया पर हैशटैग ‘डू योगा बीट कोरोना’ के साथ पोस्ट करनी होगी।

वहीं, शुक्रवार, १९ जून को कोई भी व्यक्ति अपनी पसंदीदा योग मुद्रा वाली तस्वीर सोशल मीडिया पर हैशटैग ‘डू योगा बीट कोरोना’ के साथ पोस्ट कर इस अभियान को और भी बल प्रदान करे ऐसी अपेक्षा उन्होंने व्यक्त की है।

रूपाणी ने लोगों से अपील की है कि गुजरात के सभी लोगों को ‘डू योगा बीट कोरोना’ हैशटैग के साथ सोशल मीडिया पर योग के बारे में तमाम जानकारियां, फायदे, योगासन, आदि पोस्ट कर एक इंफर्मेशन बैंक बनाना चाहिए जिससे दुनिया भर के लोगों को उसका लाभ मिले और गुजरात एक युग प्रदेश के साथ एक योग प्रदेश के तौर पर भी पहचाना जाए, यह हम सभी के लिए एक गर्व की बात होगी। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी संस्कृति को अब दुनिया स्वीकार कर रही है। ऐसे में, राज्य सरकार ने गुजरात में भी गुजरात योग बोर्ड की स्थापना की है। इस बोर्ड का मुख्य उद्देश्य स्वस्थ जीवन शैली और निरोगी जीवन जीने के लिए योग का प्रचार-प्रसार करना है। उन्होंने विश्वास जताया कि बोर्ड के प्रयासों से गुजरात की वर्तमान और भावी पीढ़ी स्वस्थ और प्रबल बनेगी।
 

 

ALL STORIES

Loading..

ADVERTISE
WITH US


CALL US
+91-9998 3349 86   |   +91-9909 9434 98
MAIL US
meraonlinenews@gmail.com